किसान परिवार के बच्चों को सरकार देगी फ्री शिक्षा, यहाँ देखें योजना

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

प्रदेश में किसानों के बालक बालिकाओं को अच्छी और मुफ़्त शिक्षा देने के लिए मुख्यमंत्री किसान शिक्षा प्रोत्साहन योजना शुरू की गई है। इस योजना में अल्प आय वर्ग, लघु, सीमांत, बटाईदार किसानों और खेतिहर श्रमिकों परिवारों से आने वाले बच्चों को मुफ़्त शिक्षा दी जाएगी।

मुख्यमंत्री किसान शिक्षा प्रोत्साहन योजना के लिए शैक्षणिक सत्र 2024-25 का नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है। जिसके अनुसार यह योजना 1 जुलाई 2024 से लागू हो जाएगी।

Mukhyamantri Kisan Shiksha Yojana

मुख्यमंत्री किसान शिक्षा प्रोत्साहन योजना में अल्प आय वर्ग, लघु, सीमांत, बटाईदार किसानों और खेतिहर श्रमिक परिवारों के बच्चों को केजी के लेकर पीजी तक की शिक्षा निशुल्क दी जाएगी। यह योजना इसी सत्र से लागू हो गई है।

यदि आप भी ऐसे किसी परिवार से है, जो शिक्षा का खर्च नहीं उठा पा रहे है तो इस योजना का लाभ जरूर लेना चाहिए। इसके साथ ही जरूरत मंद परिवारों तक इस योजना के बारें में जानकारी देनी चाहिए। जिससे अधिक से अधिक लोगों को मुख्यमंत्री किसान शिक्षा प्रोत्साहन योजना का लाभ मिल सकें।

इस योजना के अंतर्गत, वे अभ्यर्थी पात्र होंगे जिनकी वार्षिक आय 2.5 लाख रुपए तक है। इस योजना में राजकीय महाविद्यालयों में अध्ययन करने वाले छात्र और छात्राओं को मुख्यमंत्री किसान शिक्षा प्रोत्साहन योजना के तहत राजकीय निधि कोष से प्रदान की जाने वाली राशि माफ कर दी जाएगी। इसमें प्रवेश शुल्क, शिक्षण शुल्क और प्रयोगशाला शुल्क शामिल हैं।

योजना के लिए पात्रता

मुख्यमंत्री किसान शिक्षा प्रोत्साहन योजना का लाभ राजस्थान के स्थाई निवासी परिवार के बच्चों को मिलेगा, जो निम्न किसी भी केटेगरी से संबंधित है –

कम आय वर्ग: जिन माता-पिता की वार्षिक पारिवारिक आय 2.50 लाख रुपये या इससे कम है, उनके बच्चों को इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।

लघु, सीमांत किसान: लघु और सीमांत किसानों की परिभाषा सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा निर्धारित की गई है। इसकी विस्तृत जानकारी आधिकारिक अधिसूचना में देखी जा सकती है।

बटाईदार किसान: वे किसान जिनके पास स्वयं की भूमि नहीं होती, वे दूसरों की जमीन पर खेती करते हैं और इसके बदले में फसल का आधा हिस्सा जमीन के मालिक को देते हैं।

खेतिहर श्रमिक, भूमिहीन, कृषि मजदूर: खेतिहर श्रमिक, भूमिहीन, और कृषि मजदूर वे व्यक्ति होते हैं जिनके पास अपनी खुद की कृषि भूमि नहीं होती है। ये लोग किसानों की जमीन पर मजदूर या श्रमिक के रूप में काम करते हैं। इसके अलावा, कुछ लोगों के पास थोड़ी बहुत कृषि भूमि होती है, लेकिन अपने परिवार की आजीविका चलाने के लिए उन्हें भी कृषि मजदूरी करनी पड़ती है।

इसके साथ ही इस योजना में ऐसे परिवार के बच्चे भी आवेदन कर सकते है, जिनके पास जॉब कार्ड, राशन कार्ड, उज्ज्वला योजना में चयनित, राज्य सरकार में अन्य पंजीकृत योजना में चयनित या या राजस्थान का मूल निवास प्रमाण पत्र हो।

योजना में आवेदन प्रक्रिया

मुख्यमंत्री किसान शिक्षा प्रोत्साहन योजना का लाभ इस शैक्षणिक सत्र से मिलना शुरू हो गया है। इस योजना के कार्यान्वयन की जिम्मेदारी महाविद्यालय के प्राचार्य को उच्च शिक्षा विभाग के माध्यम से सौंपा गया। इसमें 2024-25 की प्रवेश नीति के आवश्यक निर्देशों को शामिल किया जाएगा। आवेदकों को आवेदन पत्र में निर्दिष्ट कॉलम में “हाँ” चिह्नित करते हुए संबंधित दस्तावेज़ अपलोड करने की सुविधा दी जाएगी। प्रवेश नीति में फीस से संबंधित मुद्दों को भी इसमें शामिल किया जाएगा और महाविद्यालयों की फीस संरचना में भी परिवर्तन किया जाएगा।

योजना का नोटिफिकेशन

इस योजना के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। नोटिफिकेशन डाउनलोड करने का लिंक यहाँ दिया गया है। यदि आप भी इस योजना का लाभ लेने चाहते है तो नोटिफिकेशन जरूर पढ़ना चाहिए।

नोटिफिकेशन डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

I am Raj from Rajasthan, and I like to write on topics related to education and jobs, entrance exam. I have experience working in this fild for about 4 years. I have been working in the Exam section of bstcexam.in.

Leave a Comment

Close This Ads
WhatsApp